China बना रहा है सूरज, इस साल के अंत तक हो जाएगा तैयार!

China बना रहा है सूरज, इस साल के अंत तक हो जाएगा तैयार!

चीन (China) जल्दी ही अपने खास सूरज का निर्माण (manufacturing Sun) पूरा कर सकता है. न्यूक्लियर पावर (nuclear power) से काम करने वाला ये सूरज असली सूरज से भी ज्यादा तेज रोशनी देगा.
वैज्ञानिक लगातार कह रहे हैं कि सूरज की रोशनी कम होती जा रही है. खुद नासा (NASA) के शोध भी यही बताते हैं कि आकाशगंगा (galaxy) के दूसरे तारों की अपेक्षा हमारा सूरज जल्दी कमजोर हो रहा है. इससे धरती पर हिमयुग जैसी आशंकाएं भी जताई जा रही हैं. हालांकि चीन (China) अब नकली सूरज (artificial sun) पर तेजी से काम कर रहा है और उसका दावा है कि ये असल सूरज से लगभग 13 गुना तक ज्यादा रोशनी और गर्मी देगा.

चीन (China) के वैज्ञानिकों ने कृत्रिम सूरज (artificial sun) तैयार करने में सफलता हासिल कर ली है. ये एक ऐसा परमाणु फ्यूजन (nuclear fusion) है, जो असली सूरज से 13 गुना ज्यादा ऊर्जा देगा. कई सालों से चली आ रही ये रिसर्च (research) हाल ही में पूरी हुई है. Artificial sun के इस प्रोजेक्ट से जुड़े एक वैज्ञानिक Duan Xuru ने एक इंटरव्यू में कहा कि इसी साल इसे अमल में लाया जा सकता है. ये खबर sciencealert में छपी है. वैसे चीन ही नहीं, बल्कि दुनिया के सारे देश सूरज बनाने की कोशिश कर रहे थे लेकिन गर्म प्लाज्मा को एक जगह रखना और उसे फ्यूजन तक उसी हालत में रखना सबसे बड़ी मुश्किल आ रही थी.


चीन में ये प्रोजेक्ट साल 2006 से चल रहा है. कृत्रिम सूरज को HL-2M नाम दिया गया है, जिसे चाइना नेशनल न्यूक्लियर कॉर्पोरेशन (China National Nuclear Corporation) और साउथवेस्टर्न इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिक्स (Southwestern Institute of Physics) के वैज्ञानिकों ने मिलकर बनाया है. बता दें कि कृत्रिम सूरज बनाने की ये कोशिश काफी सालों से चली आ रही थी, ताकि प्रतिकूल मौसम में भी सोलर एनर्जी बनाई जा सके और उसका इस्तेमाल हो सके.
काफी कोशिशों के बाद आखिरकार सफलता मिली. इस दौरान देखा गया कि नकली सूरज पर इस प्रयोग में असली सूरज से भी ज्यादा ऊर्जा पैदा की जा सकती है. ये ऊर्जा 200 मिलियन डिग्री सेल्सियस थी, यानी असल सूरज से 13 गुना ज्यादा. यह अविष्कार उस प्रोजेक्ट का हिस्सा है जिसके तहत न्यूक्लियर फ्यूजन से साफ-सुथरी एनर्जी प्राप्त की जा सके. माना जा रहा है कि सूरज की नकल के तरीके से मिलने जा रही ऊर्जा एनर्जी के दूसरे स्त्रोतों से कहीं अधिक सस्ती और पर्यावरण के लिए कम हानिकारक है.

अगर ये प्रयोग लागू किया जा सके तो जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम होगी. ये भी माना जा रहा है कि इस सूरज में उत्पन्न की गई नाभिकीय ऊर्जा को विशेष तकनीक से पर्यावरण के लिये सुरक्षित ग्रीन ऊर्जा में बदला जा सकेगा. जिससे धरती पर ऊर्जा का बढ़ता संकट तरीकों से दूर किया जा सकेगा.
काफी कोशिशों के बाद आखिरकार सफलता मिली. इस दौरान देखा गया कि नकली सूरज पर इस प्रयोग में असली सूरज से भी ज्यादा ऊर्जा पैदा की जा सकती है. ये ऊर्जा 200 मिलियन डिग्री सेल्सियस थी, यानी असल सूरज से 13 गुना ज्यादा. यह अविष्कार उस प्रोजेक्ट का हिस्सा है जिसके तहत न्यूक्लियर फ्यूजन से साफ-सुथरी एनर्जी प्राप्त की जा सके. माना जा रहा है कि सूरज की नकल के तरीके से मिलने जा रही ऊर्जा एनर्जी के दूसरे स्त्रोतों से कहीं अधिक सस्ती और पर्यावरण के लिए कम हानिकारक है.

अगर ये प्रयोग लागू किया जा सके तो जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम होगी. ये भी माना जा रहा है कि इस सूरज में उत्पन्न की गई नाभिकीय ऊर्जा को विशेष तकनीक से पर्यावरण के लिये सुरक्षित ग्रीन ऊर्जा में बदला जा सकेगा. जिससे धरती पर ऊर्जा का बढ़ता संकट तरीकों से दूर किया जा सकेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *