Pakistan में महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराधों में मार्च में 200 प्रतिशत की वृद्धि हुई: अध्ययन

Pakistan में महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराधों में मार्च में 200 प्रतिशत की वृद्धि हुई: अध्ययन

कराची, 12 मई (भाषा) पाकिस्तान में महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराधों में मार्च में 200 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है। महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध में वृद्धि ऐसे समय सामने आयी है जब देश कोरोना वायरस महामारी से प्रभावित है। यह जानकारी एक अध्ययन से सामने आयी है।

यह अध्ययन देश के मानवाधिकार आयोग की उस रिपोर्ट के बाद आया है जिसमें चेतावनी दी गई है कि कोरोना वायरस महामारी से गरीब वर्गों की स्थिति और खराब होगी।

‘द न्यूज’ में मंगलवार को प्रकाशित एक लेख के अनुसार ‘सस्टेनेबल सोशल डेवलप्मेंट आर्गेनाइजेशन’ (एसएसडीओ) ने अपनी जनवरी से मार्च 2020 रिपोर्ट में कहा कि जनवरी के मुकाबले महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामलों में 200 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी गई है।

इस्लामाबाद स्थित गैर सरकारी संगठन ने कहा कि इसी तरह से बाल उत्पीड़न, घरेलू हिंसा, अपहरण और बलात्कार के मामलों में भी बढ़ोतरी देखी गई।

एसएसडीओ ने अपने अध्ययन ‘ट्रैकिंग क्राइम्स अगेंस्ट ह्यूमंस इन पाकिस्तान’ के लिए आंकड़े अंग्रेजी भाषा के तीन समाचार पत्रों…द न्यूज, द डान और द नेशन तथा तीन उर्दू समाचार पत्रों..जंग, दुनिया और एक्सप्रेस से एकत्रित किये।

अपराधों को आठ श्रेणियों में विभाजित किया गया..बाल विवाह, बाल उत्पीड़न, बाल श्रम, घरेलू उत्पीड़न, अपरहण, बलात्कार, महिलाओं के खिलाफ हिंसा और हत्या।

फरवरी में बाल उत्पीडन के 13 मामले सामने आए, जबकि मार्च में 61 मामले आए। जनवरी में बाल उत्पीड़न का कोई भी मामला सामने नहीं आया।

घरेलू हिंसा के मामले फरवरी में छह से बढ़कर मार्च में 20 हो गए। जनवरी में कोई मामला सामने नहीं आया था।

मार्च में बलात्कार के 25 मामले सामने आये जबकि फरवरी में 24 और जनवरी में नौ मामले सामने आये थे।

अपहरण के मामलों में काफी वृद्धि देखी गई। जनवरी और फरवरी में अपहरण के जहां क्रमश: 48 और 41 मामले सामने आये थे, ये मार्च बढ़कर 75 हो गए।

महिलाओं के खिलाफ हिंसा की अन्य घटनाएं भी जनवरी और फरवरी में क्रमश: 10 और शून्य से बढ़कर मार्च में 36 हो गईं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *